www.poetrytadka.com

jalti rahi

एक मुद्दत से चरागों की तरह जलती है 

इन तरसती आँखों को बुझा दे कोई 

dukhi status jalti rahi