www.poetrytadka.com

ishq ki rah me manmarzi nahi chalti

खुदा की रहमत में अर्जियाँ नहीं चलतीं !
दिलों के खेल में खुदगर्जियाँ नहीं चलतीं !
चल ही पड़े हैं तो ये जान लीजिए हुजुर !
इश्क़ की राह में मनमर्जियाँ नहीं चलतीं !!