www.poetrytadka.com

intezaar me

intezaar me

आज फिर बैठा हूँ हिचकियों के इन्तिज़ार में.

देखूं तो सही तुम कब मुझे याद करते हो