www.poetrytadka.com

Insaniyat dil me hoti hai

 

इंसानियत दिल में होती है
हैसियत में नहीं
ऊपर वाला कर्म देखता है
वसीयत नहीं !!