www.poetrytadka.com

Huye badnam mgar

हुए बदनाम मगर फिर भी न सुधर पाए हम,

फिर वही शायरी, फिर वही इश्क, फिर वही तुम

Huye badnam mgar