www.poetrytadka.com

hushn tha adaae thi kai jalwe the mahfil me

हुस्न था अदाएं थीं कई जलवे भी थे महफिल में !
मगर एक शख्श की सादगी इन सब पर भारी थी !!