www.poetrytadka.com

Hum sab log

कैसे नादान है हम हम सब लोग दुःख आता है तो अटक जाते है सुख़ आता है तो भटक जाते है 

hum sab log