www.poetrytadka.com

Hum phool bankar teri raho pe bikhar jaaenge

Last Updated
वफ़ा का लाज हम वफा से निभायेगें !
चाहत के दीप हम आँखों से जलाएंगे !
कभी जो गुजरना हो तुम्हें दूसरे रास्तों से !
हम फूल बनकर तेरी राहों में बिखर जायेंगे !!