www.poetrytadka.com

Hota nahi mahsoos dard

Last Updated
होता नहीं मेहसुस दर्द आज तेरे जखमों का !
कयुँ आज तेरी तलवार की धार कम है !
कुछ दे ऐसे जख्म आज मुझको !
क्युँ लगता है की आज तेरा प्यार कम है !!