www.poetrytadka.com

Hosh me aana bhool gae

देख के तुमको होश में आना भूल गये !

याद रहे तुम, ओर जमाना भूल गये !

जब सामने तुम आ जाते हो !

क्या जानिये क्या हो जाता है !

कुछ मिल जाता है,कुछ खो जाता है!

क्या जानिये क्या हो जाता है !!

Kavita Kosh कविता कोश