hamesha rakha hai intezar tera

hamesha rakha hai intezar tera

aakhen rehti hai shaam woshar muntazar teri
aankho ko shaop rakha hai intezar tera
अब वही करने लगे दिदार से आगे की बात
जो कभी कहते है सिर्फ दिदार ही काफी है

log kehte hai mera yaar chand ka tukda hai
main kehta hoon chand mere yaar ka tukda hai
लोग कहते है मेरा यार चाँद का टुकडा है
मैं कहता हूँ चाँद मेरे यार का टुकडा है

Read More