www.poetrytadka.com

gulshan ki bharo me

गुलशन की बहारो मे, इन महकी फिजाओ मे !
जब आप हमें ढूढोगे, तो आपकी आँखों मे नमी होगी !
सब कुछ होगा आपके पास, बस एक हमारी ही कमी होगी !!