www.poetrytadka.com

gazab ka zulm

gazab ka zulm
गजब का जुल्म ढाया खुदा ने हम दोनों के उपर 
मुझे भरपुर इस्क दे कर तुम्हें बेइन्तहा हुस्न दे कर