www.poetrytadka.com

Garib ki zaroorat

गरीबो के बदन को भी है चादर की जरूरत !
अब खुलकर मजारो पे ये ऐलान किया जाय !!