www.poetrytadka.com

gam ke anzam se

गम के अंजाम से खुद को हताश न कर !
अपनी तन्हाई को खुद के पास न कर !
खोज ले राह तू अपनी उम्मीदों की !
सबके सामने खुद को बदहवास न कर !!