www.poetrytadka.com

fkir mizaz hoo mai apna

फकीर मिज़ाज़ हूँ मैं अपना अंदाज औरों से जुदा रखता हूँ !
लोग मंदिर मस्जिदों में जाते है, मैं अपने 'दिल में ख़ुदा रखता हूँ !!