www.poetrytadka.com

fir nhi baste

Last Updated
फिर नहीं बसते वो दिल जो, एक बार
उजड़ जाते है, कब्रें जितनी भी सजा लो
पर.. कोई ज़िंदा नहीं होता
fir nhi baste