www.poetrytadka.com

fikr bhut karti hai

आज यकीन हो गया 'साहब', हमको उनकी वफाओं का !
वो मुझसे इश्क़ तो नहीं करती , फिक्र बहुत करती है !!