www.poetrytadka.com

Dost ho ya parinda

दोस्त हो या परिंदा दोनों को आजाद छोड़ दो, लौट आया तुम्हारा और न आया तो तुम्हारा कभी था हे नहीं।