www.poetrytadka.com

do hisso me

do hisso me

दो हिस्सों में बंट गए हैं, मेरे दिल के तमाम अरमान !

कुछ तुझे पाने निकले, तो कुछ मुझे समझाने निकले !!