www.poetrytadka.com

diwano ka mousam jane wala hai

शहर में बिखरी हुई है ज़ख्म ए दिल की खुशबु !
ऐसा लगता है दीवानों का मौसम जाने वाला है !!