www.poetrytadka.com

dil mera

Last Updated

हाथों की लकीरे पढ़ कर रो देता है दिल मेरा 

सब कुछ तो है मग़र एक तेरा नाम क्यूँ नही है

dil mera