www.poetrytadka.com

Dil Chahta hai

दिल तो चाहता है की मर जाएँ तेरी खातिर ए दोश्त !
मगर डरते है की मरने के बाद तू किसी और का न हो जाये !!