www.poetrytadka.com

Didar ki tlab ho to nazre

दीदार की 'तलब' हो तो...नज़रे जमाये रखना !
क्यूंकि,'नकाब' हो या 'नसीब' सरकता जरुर है !!
सबसे बेस्ट शायरी Click Here