www.poetrytadka.com

Daulat Shayari

Har cheez ka khona bhi badi daulat hai... Be-fikri se sona bhi badi daulat hai. iflas ne sakht-mout aasan kar di daulat ka na bhi hona daulat hai

दर्द कितना खुशनसीब है ना 
अपनों की याद दिला देता है, 
और एक दौलत है जो अपनों 
को भी भूला देती है।

Daulat Shayari