www.poetrytadka.com

Darya wafaon ka kabhi rukta nahi

Last Updated

दरिया वफाओ का कभी रुकता नहीं 

मोहब्बत में इन्सान कभी झुकता नहीं 

खामूश है हम उनके ख़ुशी के खातिर 

वो समझते है की दिल हमारा दुखता  नहीं