www.poetrytadka.com

darwaze band ho gae

हर मर्ज़ का इलाज़ मिलता था उस बाज़ार में !
मोहब्बत का नाम लिया, दवाख़ाने बन्द़ हो गये !!