www.poetrytadka.com

dard urdu poetry

dard urdu poetry
rishte khoon se nahi ehsaas ke hote hai
agar ehsaan nahi hai to apne bhi ajbani lagte hai
रिश्ते खून से नहीं एहसास के होते है
अगर एहसान नहीं है तो अपने भी अजबनी लगते है

jism ko maut aati hai kirdar ko nahi
apne kirdaar ko nehtar banao
q ke log tumhe maut ke baad bhi yaad karen
जिस्म को मौत आती है किरदार को नहीं
अपने किरदार को नेहतर बनाओ
क्यू के लोग तुम्हे मौत के बाद भी याद करें