www.poetrytadka.com

Dard Udaas Hokar

दर्द चला जाता है मेरी दहलीज़ से उदास होकर, परेशान नहीं होता मैं कभी अपनी माँ के पास होकर