www.poetrytadka.com

Chupe chupe se rahte ho

छुपे छुपे से रहते हैं,
सरेआम नहीं हुआ करते,
कुछ रिश्ते बस एहसास होते हैं,
उनके नाम नहीं हुआ करते
chupe chupe se rahte ho