www.poetrytadka.com

Chand taro ki nigah

चाँद तारों की निगाहें लगी होंगी दर पर !

मुझको हर हाल में घर शाम तलक जाना है !!