www.poetrytadka.com

chand samandar

ख़्वाबों की तस्वीरों में अब आओ भर लें रंग नया,

चाँद समुंदर कश्ती हम तुम ये जल्वे इक साथ कहाँ