www.poetrytadka.com

Chalne ka nahi sabhalne ka

इतनी ठोकरे देने के लिए शुक्रिया ए-ज़िन्दगी !

चलने का न सही सम्भलने का हुनर तो आ गया !!

Chalne ka nahi sabhalne ka