www.poetrytadka.com

chahat ne teri mujh ko kuch

चाहत ने तेरी मुझको कुछ इस तरह से घेरा !

दिन को हैं तेरे चरचे रातों को ख्वाब तेरा !

तुम हो जहाँ वहीं पर रहता है दिल भी मेरा !

बस इक ख्याल तेरा क्या शाम क्या सवेरा !!