www.poetrytadka.com

Bichadte waqt

बिछड़ते वक़्त मेरे ऐब गिनाये उसने,

सोचती हूँ जब मिला था तब कौन सा हुनर था मुझमें

bichadte waqt