www.poetrytadka.com

bharosha nahi hota

भिगी है मेरी उगलिया मेरे अश्को मे !
अब चमकते हूए चहरो पर भरोसा नही होता !!