www.poetrytadka.com

Be parwaah

बड़ी बेपरवाह हो गई है खुशियां आजकल !

कब आती है कब जाती है पता ही नही चलता !!

Be parwaah