www.poetrytadka.com

Be khabar nahi

ये सोचना ग़लत है कि तुम पर नज़र नहीं
मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बे-ख़बर नहीं
Be khabar nahi