www.poetrytadka.com

bas tumhe pane ki tmanna narhi

बस तुम्हेँ पाने की तमन्ना नहीँ रही !
मोहब्बत तो आज भी तुमसे बेशुमार करतेँ हैँ !!