www.poetrytadka.com

bas hme yaad rakhna

कुछ नहीं चाहिए तुम्हारी-एक मुस्कान हीं काफ़ी हैं !
तुम दिल में बसें रहों-यें अरमान हीं काफीं हैं !
हम यें तों नहीं कहतें कि,हमारें पास आ जाओं !
बस हमें याद रखना,यें एहसास हीं काफीं हैं !!