www.poetrytadka.com

bas gaihai mere ahsas me

bas gaihai mere ahsas me

बस गयी है ये मेरे अहसास मे कैसी महक !
कोइ खुशबू मै लगाउं, तेरी खुशबु आये !!