www.poetrytadka.com

Bachne lage

मुझ से पत्थर ये कह कह के बचने लगे

तुम ना संभलोगे ठोकरें खा कर