www.poetrytadka.com

azib hai mohabbat ka khel

अजीब है महोब्बत का खेल , जा मुझे नही खेलना !
रूठ कोई ओर जाता है , टूट कोई ओर जाता है !!