www.poetrytadka.com

apni auokaat bhool jata hai

Last Updated
समंदर बड़ा होकर भी अपनी हदों में रहता है 
इन्सान छोटा होकर भी औकात भूल जाता है 

wo jo kehta tha taare tod kar launga
yakeen mano usne mujhe par aasman gira diya
वो जो कहता था तारे तोड़ कर लाऊंगा
यकीन मानो उसने मुझे पर आसमान गिरा दिया

isse kehna mujhe is ke bina nahi rehna
bohut dil main aata hai magar kuch nahi kehta
इससे कहना मुझे इस के बिना नहीं रहना
बहुत दिल में आता है मगर कुछ नहीं कहता

apni auokaat bhool jata hai