www.poetrytadka.com

Apna hote huae

जुर्म समझो तो नोच लो यह आँखे !
ख्वाब में देखा है तुम्हे अपना होते हुए !!