www.poetrytadka.com

Apna gham

अपना गम सोच समझ 
कर बांटना चाहिए 
दुनिया में हमदर्द कम 
सिरदर्द ज्यादा मिलते हैं 

Apna gham