www.poetrytadka.com

aksar yuhi swal aata hai

अक्सर यूँही एक सवाल आता है उमड़ कर ज़हन मे मेरे !
आज बे-वजह क्यो भूल गये कल तक बे-वजह चाहने वाले !!