www.poetrytadka.com

agar girna tha es trah

मेरी ख्वाबिन्दा उम्मीदों को जगाया क्यों था !
दिल जलना था तो फिर तुमने दिल लगाया क्यों था !
अगर गिरना था इस तरह नजरो से हमें !
तो फिर मेरे इस्सक को कलेजे से लगाया क्यों था !!