www.poetrytadka.com

abhi aarman baki hai

मेरा ज़मीन गयी हैं , मेरा आसमान बाकी हैं !
की टूट कर भी मेरी जान , मेरा स्वाभिमान बाकी हैं !
तू कर ले गुस्ताखी मुझे नेस्तनाबूद करने की !
पैदा हुएँ हैं शान से , अभी कई अरमान बाकी हैं !!