ab wo bhi

dard bhari shayari ab wo bhi

Wo chain se baithey hain mere dil ko mita kar
ye bhi nahin ahsaas ke kya cheez mita di
वो चैन से बैठे हैं मेरे दिल को मिटा कर
ये भी नहीं अहसास के क्या चीज मिटा दी

Suno kya tum bhi yaad karte ho is tarah
maslsal chal rahi hai saans jis tarah
सुनो क्या तुम भी याद करते हो इस तरह
मसल्सल चल रही है साँस जिस तरह

Poetry tadka dard bhari shayari, dard shayari, today's dard bhari shayari hindi.

फिर यू हुआ कि दर्द मुझे रास आ गए
फिर यूँ हुआ कि जिन्दगी आसान हो गयी
Fir You hua ki dard mujhey raas aa gaye
Fir Youn hua ki zindagi aasaan ho gayi

अजीब शै है मुहब्बत का दर्द भी
दिल मुब्तला है एक मुसलसल अजाब में
Ajeeb shai hai muhabbat ka dard bhi
Dil mubtala hai aik musalsal azaab men

Read More